RTO Officer कैसे बने? इसकी योग्यता, सैलरी क्या होती है?

कोई भी Government Officer बनने के लिए कड़ी मेहनत करनी होती है। अगर आप आरटीओ ऑफिसर (RTO Officer) बनना चाहते है तो आपको इसके लिए भी बहुत मेहनत करनी होगी। आज के इस आर्टिकल में हम आपको इसी के बारे में बतायेंगे कि आप आरटीओ अधिकारी (RTO Officer) कैसे  बन सकते हो। किसी भी नौकरी को प्राप्त करने के लिए अभ्यर्थी के पास उससे सम्बंधित जानकारी होनी चाहिए जिससे वो अच्छी तैयारी कर सके। इस आर्टिकल को पढने के बाद आपको R.T.O Officer Kaise Bane की पूरी जानकरी हो जाएगी।

RTO Officer kaise bane

अधिकांश स्टूडेंट आरटीओ के पद पर नौकरी करने के इच्छुक होते है परन्तु सही मार्गदर्शन के आभाव में वो इस पद को प्राप्त नहीं कर Rto Officer नहीं बन पाते है।

हमने उन Students की मदद के लिए ये आर्टिकल लिखा है ताकि उन्हें उनकी जरुरत की जानकरी मिल सके। आईये जानते है, आरटीओ अफसर कैसे बने? इसका वेतन, योग्यता, कार्य, रैंक कोय होता है?

  • डीजीपी (DGP) क्या होता है और कैसे बने?

आइये जानते है महत्वपूर्ण बाते और

विषय-सूची

    • आरटीओ क्या है? (What is RTO in Hindi)
    • RTO Officer को क्या कार्य करने होते है?
    • RTO Office में तीन तरह की पोस्ट होती है। जैसे
  • आरटीओ ऑफिसर कैसे बने? RTO Kaise Bane, RTO ke liye yogyta hindi me (How To Become a RTO Officer in Hindi)
    • RTO बनने के लिए शैक्षिक योग्यता (Qualification)
    • RTO Officer बनने के लिए जरुरत चीज़े?
    • RTO बनने के लिए लिखित परीक्षा (Written Exam)
    • RTO बनने के लिए शारीरिक परीक्षण (Physical Test)
    • RTO बनने के लिए मेडिकल जाँच (Medical Test)
    • RTO बनने के लिए साक्षात्कार (Interview)
    • RTO Officer की वेतन/सैलरी (Salary)
    • आरटीओ की पद (Rto Of Rank)
    • निष्कर्ष (Conclusion)

आरटीओ क्या है? (What is RTO in Hindi)

RTO Officer Ki Full Form In English “Regional Transport Officer होता है। RTO Officer ki Full Form In Hindi “क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय” होता है।

क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय भारतीय सरकार का संगठन है जो भारत के विभिन्न राज्यों के लिए ड्राइवरों के डेटाबेस वाहनों के डेटाबेस को बनाए रखने के लिए ज़िम्मेदार है, इन्हें  RTO Officer कहा जाता है।

मोटर वाहन विभाग की स्थापना मोटर वाहन अधिनियम 1988 की धारा 213 (1 ) के तहत की गई है। यह पुरे देश में लागू एक केंद्रीय अधिनियम है। मोटर वाहन विभाग इस अधिनियम के विभिन्न प्रावधानों को लागू करने के लिए जिम्मेदार है। इस विभाग का आयोजन परिवहन आयुक्त द्वारा किया जाता है।

प्रत्येक राज्य और शहर का अपना आरटीओ (क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय ) होता है। मोटर वाहन अधिनियम 1988 में रखे गए कार्यो और गतिविधियो को पूरा करने के लिए प्रत्येक R.T.O जिम्मेदार है।

RTO Officer को क्या कार्य करने होते है?

यदि आप भी RTO Officer बनना चाहते है तो आपके लिए यह जानना बहुत जरुरी है की R.T.O officer का काम क्या होता है, आरटीओ ऑफिसर क्या काम करता है।

1. Driving license:

RTO Department द्वारा दिया जाता है। अगर आप कोई भी वाहन चलाते है तो Driving के लिए लाइसेंस कितना जरुरी है यह तो आप जानते ही होगे।

ड्राइविंग लाइसेंस को प्राप्त करने के लिए Driving के कुछ Test होते है। जिन्हें पास करना होता है तब हमारा Driving license बनता है। य licence बनाने का काम RTO office में ही होता है।

2. Vehicle Registration:

जब भी कोई व्यक्ति नया वाहन खरीदता है तो उसे Vehicle पर क़ानूनी आधार पर हक़ पाने के लिए Registration करना होता है। बिना नंबर प्लेट के गाड़ी चलाना गैर क़ानूनी होता है। किसी वाहन का Registration करना RTO का ही एक कार्य होता है।

3. Pollution Test:

RTO के द्वारा गाडियों का प्रदुषण लेवल टेस्ट किया जाता है। जो वाहन ज्यादा प्रदुषण करता है उनका लाइसेंस Cancel कर दिया जाता है।

4. Insurance:

Insurance का काम भी RTO के द्वारा किया जाता है। यदि आपको अपनी गाड़ी का बीमा कराना है तो आपको RTO Office जाना होगा।

अब आप सोच रहे होगे की RTO Officer को किन Post पर कार्य करना होता है।

RTO Office में तीन तरह की पोस्ट होती है। जैसे

  • Clerical Or Clerk
  • (Sub) Assistant Engineer Post
  • Judicial Post

अब सबसे महत्वपूर्ण जानकारी जो है…

आरटीओ ऑफिसर कैसे बने? RTO Kaise Bane, RTO ke liye yogyta hindi me (How To Become a RTO Officer in Hindi)

गाड़ियों का जो पंजीकरण किया जाता है वह भारतीय सरकार के एक विभाग के द्वारा होता है और वो है RTO ऑफिसर। आपको RTO Officer बनने के लिए कुछ RTO Officer Eligibility को पूरा करना होता है।

आरटीओ ऑफिसर पद के लिए सीधा चयन नही किया जाता है, इसके लिए आपको सबसे पहले RTO या IMV के पद पर चयन होना पड़ता है। इसके कुछ वर्षो के उपरांत प्रोन्नति द्वारा आरटीओ के पद पर नियुक्ति की जाती है।

तो आईय हम आपको पूरा विस्तार से समझाते है। चलिए अब हम आपको rto बनने के लिए क्या क्या requirements है? के बारे में विस्तार से बताते है।

RTO बनने के लिए शैक्षिक योग्यता (Qualification)

  • आरटीओ ऑफिसर बनने के लिए Applicant को 10वीं पास होना चाहिये।
  • अगर आप इसमें और  भी High Post प्राप्त करना चाहते है तो आपको Recognized University से Graduation पास होना चाहिए।
  • RTO अधिकारी के लिए महिलाएं और पुरुष दोनों ही आवेदन कर सकते है।
  • आरटीओ ऑफिसर के लिए आयु सीमा लगभग 21 से 30 साल तक के बीच होना चाहिए।
  • OBC उम्मीदवार के लिए 3 साल की छुट होती है और Sc/St के लिए आवेदकों को 5 साल की छुट होती है।

RTO Officer बनने के लिए जरुरत चीज़े?

आपको सबसे पहले आवेदन करना होगा। RTO लिए आवेदन करना बहुत ही आसान है। RTO Officer Exam में पास होने के लिए आपको 2 परीक्षाए देनी होती है और उसके बाद इंटरव्यू देना होता है। जो आपको पास करना होता है।

तो चलिए जानते है इसकी पूरी प्रक्रिया के बारे में

Rto Officer Exam का सिलेबस (Syllabus):

आरटीओ ऑफिसर की परीक्षा देने के लिए इसका Syllabus पता होना जरुरी है। उसके बाद आप इसकी पढाई कर सकते है। इसकी पढाई के लिए एक टारगेट अनुसार जरुरी है। जैसे-

  • सामान्य नॉलेज (General Knowledge)
  • सामान्य राज्य भाषा (General State Language)
  • सामान्य अंगेजी (General English)
  • सामान्य विषयो (General Subject)

ये वो Syllabus जो आपको आरटीओ बनने के लिए पढना होगा।

RTO बनने के लिए लिखित परीक्षा (Written Exam)

सबसे पहले आपकी Written Exam होती है। यह परीक्षा 2 घंटे की होती है। इसका पेपर 200 अंक का होता है। इसमें आपसे निम्न विषयो पर विभिन्न तरह के प्रश्न पूछे जाते है।

  • राष्ट्रीय और अन्तर्राष्ट्रीय वर्तमान घटनाक्रम (National And International Current Events)
  • भारत का इतहास (History Of India)भूगोल (Geography)
  • आर्थिक और सामाजिक विकास (Economic And Social Development)
  • पर्यावरण और पारिस्थिकी (Environment And Ecology)
  • सामान्य विज्ञान (General Science)
  • अंग्रेज़ी भाषा (English Language)

RTO बनने के लिए शारीरिक परीक्षण (Physical Test)

लिखित परीक्षा के बाद आपका Physical Test होता है। इसमें Physical Test पास करना होता है। किसी भी नौकरी में पद के अनुरूप फिजिकल टेस्ट और मेडिकल टेस्ट का का मानक निर्धारित किया जाता है। जिससे अभ्यर्थी के शारीरिक क्षमता की जाँच संभव हो सके।

यदि आप सुरक्षा से सम्बंधित नौकरी के लिए आवेदन कर रहे है तो उसका फिजिकल टेस्ट और मेडिकल टेस्ट का मानक अलग होता है और अगर आप अन्य पद के लिए आवेदन कर रहे है तो उसका स्टैंडर्ड अलग होता है।

फिजिकल टेस्ट और मेडिकल टेस्ट के द्वारा उस विभाग या संस्था को आपको योग्य या अयोग्य घोषित करने का पूर्ण अधिकार होता है। इसलिए आवेदन करने वाले अभ्यर्थी को इसमें उत्तीर्ण होना अति आवश्यकता है।

फिजिकल टेस्ट किसी भी चयन प्रकिया लड़की या लड़का माप तोल विभिन्नता के अनुरूप होती है। जैसे की लम्बाई  सीना दोड़ आदि और आप जानते ही है Male/Female के फिजिकल टेस्ट में अन्तर होता है।

पुरुष अभ्यर्थी को सभी मापदंड पुरे करने होते जबकि महिला को दोड़ सीना आदि में छुट होती है।

RTO बनने के लिए मेडिकल जाँच (Medical Test)

RTO के मेडिकल टेस्ट में आपके घुटने पैर फ़्लैट, अंगूठो में हेलिक्स, हड्डियों में कहीं असमानता, पैर धनुषाकार, जोड़ो में कहीं भी असामान्यता, छाती अंदर धंसी न हो, उभरे और स्वस्थ मसल्स, अभ्यर्थी का मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य अच्छा होना सुनने की क्षमता, आँखों कलर के अंधेपन या कलर ब्लैकड़नेस से मुक्ति हो, आँखों की दूर की नजर और पास की नजर सामान्य हो, आँखे थोड़े से प्रकाश में ही कोई प्रोब्लम न हो इस प्रकार की जाँच की जाती है।

जाँच के समय आपके प्रत्येक अंग के मानक डॉक्टर के पास उपलब्ध रहते है, जिससे वह आपको योग्य या अयोग्य घोषित करते है।

RTO बनने के लिए साक्षात्कार (Interview)

दोनों Exam को पास करने के बाद आपका Interview होगा। साक्षात्कार विभाग द्वारा गठित समिति के समक्ष देना होता है। गुणवत्ता के Base पर आपको जाँचा जाता है और आपसे कुछ सवाल किये जाते है। जिसमे व्यक्ति की मानसिक जाँच भी की जाती है। यदि अभ्यर्थी इसमें उत्तीर्ण हो जाता है, तो उसका चयन कर दिया जाता है।

Interview लेने वाला क्या जानना चाहता है? वो जानना चाहता है की आप इस पद के प्रति कितना गंभीर है या इस नौकरी में आप कितनी दिलचस्पी रखते हैं। इसलिए हमको सही तरीका अपनाना चाहिये ताकि हम साक्षात्कार (Interview) पास हो सके।

आपके मन भी यह सवाल तो जरुर आया होगा की Rto Officer कितना वेतन मिलता है?

RTO Officer की वेतन/सैलरी (Salary)

चाहे कोई सी भी नौकरी हो हम सबसे पहले उसकी सैलरी जानना चाहते है की इस नोकरी से हमे कितनी सैलरी प्राप्त होगी।

जी हां आरटीओ ऑफिसर की सैलरी में बहुत सी रैंक शामिल होती है और यह Rto Officer Rank के अनुसार अलग-अलग होती है। Rto Officer की सैलरी बहुत अच्छी सम्मान जनक मिलती है और यह 20,000 से 40,000 रूपए तक की होती है।

नोट- यदि आप Rto Officer बनने के लिए मेहनत कर रहे है तो आपको इसकी तैयारी पर पूरी तरह से टारगेट के साथ करनी चाहिए।

आरटीओ की पद (Rto Of Rank)

आरटीओ ऑफिसर ग्रेड बी का अधिकारी होता है यह एक उच्च अधिकारी होता है जिसे अपने क्षेत्र के वाहन की जाँच करने और वाहन से सम्बंधित डॉक्यूमेंट की जाँच करने का अधिकार प्राप्त होता है।

निष्कर्ष (Conclusion)

आप भी Rto Officer Job के लिए Apply कर सकते है। यहाँ आपको Rto Officer vacancy से जुड़ी सभी प्रकार की जानकारी दी गई है। जिसके द्वारा आपको Rto Officer की तैयारी करने में पूरी मदद मिलेगी। उम्मीद है, अब आपको rto बनने की तैयारी करने में कोई परेशानी नही होगी और आप आसानी से आरटीओ ऑफिसर की तैयारी कर सकते है।

यहाँ Rto Officer से जुडी सूचना में आपने जाना…

  • Rto Officer क्या होता है Rto Officer कैसे बने
  • Rto Officer बनने के लिए क्या करे
  • Rto Officer के कार्य किया है। आप को इन सब के बारे में जानकारी दी गई है

आपको यह जानकारी कैसी लगी नीचे Comment करके ज़रूर बताए और अगर इस पर आपके किसी तरह के कोई सुझाव है तो वो भी ज़रूर बताए।

ये भी पढ़े,

  • सीआईडी ऑफिसर (CID Officer) कैसे बने?
  • स्कूल टीचर (School Teacher) कैसे बने? अध्यापक बनने की जानकारी

इस Post को Social Media पर ज़रूर Share करे और ज्यादा से ज्यादा लोगो तक यह जानकारी पहुचाएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *