स्टेनोग्राफर (Stenographer) कैसे बने? योग्यता, करियर स्कोप, सैलरी


तो दोस्तों, आज के इस आर्टिकल में हम जानेंगे की सरकारी विभाग में स्टेनोग्राफर कैसे बनते है। यह सरकारी विभाग में काफ़ी अच्छा पद माना जाता है। क्योंकि इसका कार्य राइटिंग/टाइपिंग और ऑफिसर की तरह होता है इसलिए यदि आप भी Stenographer बनने की चाहते रखते है तो आपके लिए बहुत ही अच्छा मौका होता है एक सरकारी डिपार्टमेंट में मोडर्न राइटिंग व टाइपिंग आदि कार्य का पद हासिल करना लेकिन आपको इसके बारे में जानना जरुरी है जैसे स्टेनोग्राफर क्या होता है, कैसे बने? स्टेनोग्राफर बनने के लिए योग्यता क्या होनी चाहिए, स्टेनोग्राफर के लिए कोर्स, जॉब्स और स्टेनोग्राफर सैलरी कितनी होती है आदि के बारे में विस्तार से बताएँगे।

How to become a stenographer in hindi

स्टेनोग्राफर ऐसे विद्यार्थी बन सकते हैं जिन्हें टाइपिंग और राइटिंग करना पसंद होता है और वो इसमें अपना करियर बनाना चाहते हैं, उनके लिए स्टेनोग्राफर बहुत अच्छा ऑप्शन होता है।

आज बहुत से students स्टेनोग्राफर बनना चाहते हैं, और सोचते हैं लेकिन सही मार्गदर्शन और पूरी जानकारी नहीं मिलने के कारण सफल नहीं हो पाते हैं।

इसलिए इस आर्टिकल के माध्यम से हम स्टेनोग्राफर बनने के उम्मीदवारों के लिए स्टेनोग्राफर कैसे बनते हैं? के बारे में डिटेल्स के साथ बता रहे हैं।

विषय-सूची

  • स्टेनोग्राफर क्या है? What is Stenographer in Hindi
  • स्टेनोग्राफर कैसे बने? How to Become Stenographer in Hindi
    • स्टेनोग्राफर बनने के लिए पात्रता मापदंड (Eligibility Criteria for Stenographer)
  • स्टेनोग्राफर के लिए सिलेबस (Stenographer Syllabus)
  • स्टेनोग्राफर बनने के लिए क्या करे (What to do become Stenographer)
    • Stenographer की तैयारी कैसे करे?
    • Stenographer का वेतन
    • निष्कर्ष,

स्टेनोग्राफर क्या है? What is Stenographer in Hindi

आपको बता दें, स्टेनोग्राफी का मतलब “आशुलिपि” संक्षिप्त लेखन जिसे अंग्रेजी में सॉर्टहैंड कहा जाता है यह एक प्रकार लिखने की विधि होती है और स्टेनोग्राफर के पद अदालतों, शासकीय, कार्यालयों, मंत्रलियों, रेलवे आदि विभागों में कार्यरत होते है।

आपको एक अच्छा स्टेनोग्राफर बनने के लिए उस विषय की लैंग्वेज का व्याकरण का ज्ञान होना आवश्यक होता है। क्योंकि टाइपिंग सिखाने वाले अभ्यार्थी ही स्टेनो पद को हासिल कर सकते है अगर आप स्टेनोग्राफर बनने की सोच रहे है तो आपको 100 शब्द प्रति मिनट की गति से करना आवश्यक होता है।

स्टेनोग्राफर कैसे बने? How to Become Stenographer in Hindi

स्टेनोग्राफर में यदि आपको इंग्लिश और हिंदी दोनों भाषाओं में ज्ञान है तो बहुत अच्छा है क्योंकि अभ्यार्थी सॉर्टहैंड स्पीड कम से कम इंग्लिश में 1 मिनट 80 वर्ड और हिंदी में कम से कम 1 मिनट 80 शब्दों को लिखने का अभ्यास होना चाहिए। इस लिए आपको स्टेनोग्राफर बनने के लिए टाइपिंग सीखना बहुत जरुरी होता है।

अगर आप चाहे तो स्टेनोग्राफर टाइपिंग सिखने के लिए किसी भी आईटीआई या पॉलिटेक्निक कॉलेज में प्रवेश लेकर पढ़ाई कर सकते है तथा इसके अलावा आप अन्य किसी भी संस्थान से स्टेनो बनने के लिए ट्रेनिंग प्रवेश ले सकते है। स्टेनोग्राफर की भर्ती विभिन्न मंत्रालयों संस्थानों और सरकारी विभागों के अतिरिक्त भी बहुत विकल्प होते है।

अगर आप भी सरकारी स्टेनोग्राफर बनना चाहते हो तो आपको स्टेनोग्राफर कोर्स के लिए देश के किसी भी संस्था से एक वर्षीय कोर्स करना होगा। इस संस्थानों में 100 शब्द प्रति गति से परीक्षाएं भी ली जाती है। यदि आप स्टेनोग्राफी यानि राइटिंग/टाइपिंग सफलता प्राप्त कर लेते है तो इस में उत्तीर्ण होने के बाद आप स्टेनोग्राफर सरकारी विभागों द्वारा निकाली जाने वाली भर्तियों के लिए आवेदन कर सकते है।

लेकिन आपको गवर्नमेंट स्टेनोग्राफर बनने के लिए कुछ योग्यता की आवश्यकता होती है जिसके बारे में हम आपको नीचे बताने जा रहे है। तो आइये जान लेते है।

स्टेनोग्राफर बनने के लिए पात्रता मापदंड (Eligibility Criteria for Stenographer)

यदि आप स्टेनोग्राफर बनने चाहते है तो इसके लिए 12वीं पास होना चाहिए साथ ही किसी भी संस्था से स्टेनोग्राफर में एक वर्ष का डिप्लोमा सर्टिफिकेट होना ज़रूरी होता है।

आपको बता दें, स्टेनोग्राफर में दो ग्रेड होती है सी और डी इसलिए आपसे 12वीं के बाद ग्रेजुएशन डिग्री भी मांगी जा सकती है।

आयु सीमा: अभ्यार्थीयों के लिए ग्रेड “सी” में न्यूनतम आयु 18 वर्ष और अधिकतम आयु 30 वर्ष होनी आवश्यक है। जो की ग्रेड “डी” के लिए अभ्यार्थीयों की न्यूनतम आयु 18 वर्ष और अधिकतम आयु 27 वर्ष होनी चाहिए। जबकि ओबीसी के लिए 3 साल की छूट और एससी/एसटी के लिए 5 साल की छूट दी जाती है।

स्टेनोग्राफर के लिए सिलेबस (Stenographer Syllabus)

अब जान लेते है कि स्टेनोग्राफर बनने के लिए सिलेबस में क्या-क्या आता है जो इस तरह है।

सामान्य बुद्धि तर्क:

  • एनालोजिस
  • स्पेस विज्युलाइजेशन
  • सिमिलट्रीजं और डिफ़रेंस
  • प्रोब्लम सोलविंग
  • एनालिसिस
  • जजमेंट
  • डिसीजन मेकिंग
  • विज्युयल मेमोरी
  • डिस्क्रिमिनेटिंग ऑब्जरवेशन
  • रिलेशनशिप कांसेप्ट
  • आइडिया व सिम्बल
  • वर्बल व फिगर क्वालिफिकेशन
  • एरीथमेटिकल नंबर सीरीज
  • नॉन वर्बल सीरीज आदि।

सामान्य जागरूकता:

  • भारतीय इतिहास
  • भारतीय भूगोल
  • भारतीय संविधान
  • भारतीय राजव्यवस्था
  • भारतीय कला संस्कृति
  • भारतीय विश्व अर्थशास्त्र
  • पुरुस्कार और सम्मान
  • देश मुद्रा और राजधानियाँ
  • सरकारी नीतियां योजनाएं
  • राष्ट्रीय और अंतराष्ट्रीय
  • डे इवेंट
  • पुस्तकें और लेखक
  • तकनीक विज्ञान आदि।

English:

  • Grammar
  • Active and passive Voice
  • Homonyms
  • Fill in the Blanks
  • Direct and Indirect
  • Sentence Structuring
  • Vocabulary
  • Synonyms and Antonyms
  • Writing Ability
  • Basic Understanding Concepts etc.

नोट: आपको बता दें कि स्टेनोग्राफर में सी और डी दो अलग-अलग पद होते है इस लिए सिलेबस में भी कुछ बदलाव हो सकता है।

स्टेनोग्राफर बनने के लिए क्या करे (What to do become Stenographer)

आपको स्टेनोग्राफर बनने के लिए 2 Step को पास करना होता है जिसमे आपको लिखित परीक्षा और सॉर्टहैंड परीक्षा को पास करना होता है।

 लिखित परीक्षा:

स्टेनोग्राफर में लिखित परीक्षा के लिए विषयों से पूछे जाने वाले प्रश्न जो इस तरह है जैसे जनरल इंटेलिजेंस और रीजनिंग के 50 प्रश्न 50 अंक, सामान्य जागरूकता 50 प्रश्न 50 अंक तथा अंग्रेजी और कंप्रेशन के 100 प्रश्न 100 अंक पूछे जाते है। स्टेनोग्राफर परीक्षा समय 2 घंटे का होता है तथा विकलांग उम्मीदवारों के लिए 2 घंटे 40 मिनट का समय दिया जाता है। इस स्टेप को पास करने के बाद सॉर्टहैंड यानि आशुलिपि परीक्षा पास करनी होती है।

स्किल परीक्षा:

इसमें जो अभ्यार्थी लिखित परीक्षा को पास कर लेता है उसे स्किल परीक्षा के लिए बुलाया जाता है इसमें टाइपिंग स्किल की क्षमता टेस्ट की जाती है अभ्यार्थीयों को इंग्लिश/हिंदी में शब्द प्रति मिनट सी और डी स्टेनोग्राफर ग्रेड के लिए प्रदर्शन करना होता है। लेकिन शॉर्टहैंड प्रयोग दो चरणों में अलग-अलग होता है।

  1. स्टेनोग्राफर ग्रेड “सी” के लिए इंग्लिश 40 मिनट और हिंदी 55 मिनट दी जाती है।
  2. स्टेनोग्राफर ग्रेड “डी” के लिए इंग्लिश 50 मिनट और हिंदी 65 मिनट दी जाती है।

Stenographer की तैयारी कैसे करे?

  • आपको पिछले साल के प्रश्न हल करने चाहिए जिससे आपको प्रश्न का आईडिया होगा साथ ही अपना लेवल का भी पता चल जाता है।
  • आपको तैयारी एक टारगेट के साथ करनी चाहिए और अच्छे लोगों के साथ सही मार्गदर्शन पढ़ना चाहिए।
  • आपको घर पर भी एक शांत वातावरण में पढ़ाई करनी चाहिए। जिससे आपका दिमाक स्तर बना रहे है।
  • पुराने पेपर तथा सिलेबस देखें और थोड़ा रिसर्च भी करना चाहिए।
  • पॉइंट्स बनाकर बढ़ें तथा ग्रुप में पढ़ना चाहिए।

Stenographer का वेतन

आपको बता दें, स्टेनोग्राफर में दो अलग-अलग पद होते है सी और डी इन दोनों ग्रेड के लिए भिन्न सैलरी होती है लेकिन फिर भी स्टेनोग्राफर पद के लिए एक सम्मानजनक वेतन मिलता है।

सरकारी विभागों में स्टेनोग्राफर “डी”  पद के लिए पे ग्रेड 5200-20200 रुपए मिलते है। वहीं स्टेनोग्राफर “सी” पद के लिए भी सैलरी अच्छी मिलती है इसमें पे ग्रेड 9300-34800 रुपए मिलते है।

निष्कर्ष,

तो, इस आर्टिकल में हमने आपको Stenographer के बारे में बताया। जैसे, स्टेनोग्राफर क्या होता है, स्टेनोग्राफर कैसे बने, स्टेनोग्राफर बनने के लिए के लिए योग्यता, स्टेनोग्राफर बनने के लिए क्या करे, सिलेबस, आयु सीमा, कार्य और तैयारी कैसे करे साथ ही, स्टेनोग्राफर की सैलरी कितनी होती है आदि के बारे में पुरे विस्तार से बताया।

हम उम्मीद करते है यह आर्टिकल पूरा पढ़ने के बाद आपको स्टेनोग्राफर बनने के बारे में पूरी जानकारी मिली होगी। इसके अलावा, यदि अभी भी आपके मन में इससे संबंधित कोई सवाल या सुझाव है तो हमें कमेंट में बता सकते हैं।

यह भी पढ़ें:

  • RSCIT Course कैसे करे?

अगर आपको Stenographer Kaise Bane? की जानकारी उपयोगी लगे तो सोशल मिडिया पर अपने दोस्तों के साथ ज़रूर शेयर करें ताकि वे भी इसके बारे में जान सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *