कॉलेज में लेक्चरर (Lecturer) कैसे बनें?

जिंदगी में कुछ बेहतर और ऊंचा मुकाम हासिल करना है तो उसके लिए आपके पास अनुभव और ज्ञान का होना बहुत जरूरी होता है। लेकिन ये ज्ञान आपको बचपन से ही मिलना शुरू हो जाता है। जिसकी शुरूआत आपकी स्कूलिंग से होती है। हमारे देश में शिक्षक, Lecturer या गुरू को भगवान का दर्जा दिया जाता है जो दिन रात एक करके कड़ी मेहनत के साथ आपको इस काबिल बनाते हैं कि आप अपनी जिंदगी में कुछ बन सकें।

Lecturer kaise bane

तो चलिए आज आपको इस आर्टिकल के जरिए बताते हैं कि आप किसी की जिंदगी सवारने वाले गुरू कैसे बन सकते हैं। आज आपको इस आर्टिकल में कॉलेज में लेक्चरर (Lecturer) कैसे बनें? कॉलेज Lecturer बनने के लिए क्या -क्या योग्यता होनी चाहिए? लेक्चरर बनने के लिए जरूरी skills क्या होने चाहिए, लेक्चरर की Responsibilities और duties क्या हैं, लेक्चरर में कैरियर की संभावनाएं, लेक्चरर की सैलरी आदि के बारे में बताएंगे।

How to become a lecturer in college, College me lecturer kaise bane hindi me puri jankari, Qualification to become a lecturer in college, Required skills for a college lecturer in hindi.

कॉलेज Lecturer बनने के लिए क्या क्या योग्यता होनी चाहिए?

  • प्रोफेसर बनने के लिए आपकी ग्रेजुएशन पूरी होनी चाहिए
  • ग्रेजुएशन के बाद आपकी पोस्ट ग्रेजुएशन पूरी होनी चाहिए
  • आपके पोस्ट ग्रेजुएशन में कम से कम 55 मार्क्स होने चाहिए

विषय-सूची

    • लेक्चरर बनने के लिए जरूरी skills क्या होने चाहिए
  • लेक्चरर कैसे बनें? (How to Become Lecturer In Hindi)
    • लेक्चरर की Responsibilities और duties क्या हैं?
    • लेक्चरर में कैरियर की संभावनाएं (Career Scope in Lecturer)
    • Lecturer की सैलरी
    • Lecturer बनने की उम्र (Age for Lecturer)
    • Conclusion,

लेक्चरर बनने के लिए जरूरी skills क्या होने चाहिए

  1. Lecturer के पास सबसे पहले ऑडियंस के सामने पब्लिक स्पीकिंग जैसा अनुभव होना चाहिए, ताकि वो लोगों के सामने कुछ बोलने या अपनी बात करने में झिझक न रखे और पूरे कॉफिन्डेंस के साथ अपनी बातें कह सकें।
  2. लेक्चरर को बैठकों, सेमीनार्स और कार्यशालाओं में जाने की भी आदत होनी चाहिए और अनुभवी स्टूडेंट्स का इंटरव्यून लेना चाहिए।
  3. Lecturer को स्टूडेंट्स के स्पोर्ट और मुश्किलों के साथ मदद करने जैसे व्यक्तिगत ट्यूटर के रूप में अभिनय करना आना चाहिए, जैसे व्यावहारिक काम, कार स्थानों या क्षेत्र यात्राओं का पर्यवेक्षण करना आदि।
  4. Lecturer को संबंधित विषय की अच्छी Knowledge होनी चाहिए ताकि वो अपने स्टूडेंट्स को अच्छे से समझा सकें।
  5. एक लेक्चरर का हमेशा Patient और मिलनसार वाला व्यवहार होना चाहिए।
  6. Lecturer की writing और speech skills Perfect होना चाहिए। इसके साथ ही वो रचनात्मक यानि Creative भी हो।
  7. लेक्चरर में हमेशा अपने काम में पूरा रूचि रखने की आदत होनी चाहिए और वो हमेशा कुछ नया सिखने की इच्छा रखता हो।

लेक्चरर बनने के लिए ये सब skills होनी जरूरी है, अगर आपमें यह गुण है तो ही आप lecturer बन सकते हैं। आईये जानते हैं, lecturer कैसे बने? How to become a lecturer in Hindi?

लेक्चरर कैसे बनें? (How to Become Lecturer In Hindi)

  1. अपने किसी फेवरेट सब्जेक्ट से 12वी पास करें।
  2. अपने फेवरेट सब्जेक्ट में ग्रेजुएशन पूरी करें।
  3. पोस्ट ग्रेजुएशन यानि मास्टर डिग्री पूरी करें।
  4. UGC NET टेस्ट के लिए अप्लाई करें और क्लियर करें।
  5. प्रोफेसर बनने के लिए M. Phil या P. hd करें।

जो भी कैंडिडेट Lecturer बनना चाहता है उसे सबसे पहले नीचे बताए गए स्टेप्स को फॉलो करना होगा। तो चलिए आपको बताते हैं कि Lecturer बनने के लिए कौन-कौन से स्टेप्स आपके लिए बेहद जरूरी हैं।

Step 1:

Lecturer बनने के लिए कैंडिडेट्स को एक UGC-NET एग्जाम को पास करना जरूरी होगा। ये एग्जाम साल में 2 बार Held की जाती है जिसे पास करके आप एक Lecturer के रूप में किसी कॉलेज में नौकरी पाने के लिए योग्य बन पाएंगे।

Step 2:

UGC-NET एग्जाम को क्लीयर करने के बाद भारत में UGC द्वारा मान्यता प्राप्त आप किसी भी यूनिवर्सिटी से जुड़े किसी भी कॉलेज में लेक्चरर के के लिए अप्लाई कर सकते हैं। लेकिन आपको यह जानना भी बहुत जरुरी है कि UGC-NET को क्लियर करने से हर किसी को जॉब की गारंटी नहीं मिलती क्योंकि UGC-NET क्लीयर होना एक शर्त मानी जाती है।

इसके अलावा Lecturer के लिए आपको न्यूज़ पेपर या ऑनलाइन आने वाले अलग-अलग कॉलेजों के विज्ञापन जिसमें खाली पोस्ट के बारे में बताया गया होता है वहां खुद से भी अप्लाई करना पड़ता है। जिसके बाद College authority अपने हिसाब से एक Lecturer नियुक्त कर सकते हैं। जिसके लिए College authority कैंडिडेट्स का एक Interview लेते हैं और इंटरव्यू के बाद कैंडिडेट का एक Written Exam भी लिया जा सकता है। इस प्रक्रिया के बाद ही आपको कॉलेज में नियुक्त किया जाता है।

लेक्चरर की Responsibilities और duties क्या हैं?

किसी भी कॉलेज, यूनिवर्सिटी में पढ़ा रहे लेक्चरर की कई Responsibilities और duties होती हैं। जैसे प्रोफेसर सुपरवाईजिंग, एडवाईजिंग, मोनिटरिंग, प्रेजेंशन, रिसर्च जैसे कई जिम्मेदारियों को भी संभालते हैं। इतना ही नहीं प्रोफेसर की और भी कई जिम्मेदारियां हैं जो आप नीचे दी गई गतिविधियों से जान पाएंगे।

  1. क्लास लगाने से पहले क्लास के लिए syllabus, लेक्चर और टेस्ट तैयार करना।
  2. क्लास असाइनमेंट चेक करना।
  3. एग्जाम के ले प्रश्न तैयार करना और एग्जाम पेपर को चेक करना।
  4. स्टूडेंट्स के ग्रेड की गिनती करना।
  5. क्लास के बाहर स्टूडेंट्स को सलाह या कोई मदद देनी।
  6. नई नई चीजों को सिखने की तकनीकों पर Search करना और फिर स्टूडेंट्स के सामने प्रेसेंट करना।
  7. सेमिनार अटेंड करना।
  8. स्टूडेंट काउंसलिग करना।
  9. ग्रेजुएट स्टूडेंट्स को सुपरवाइज़ करना और उनकी रिसर्च में मदद करना।
  10. P. hd के एग्जाम का Evaluation करना।
  11. फंडिंग एजेंसी जर्नल पब्लिकेशन के लिए पेपर तैयार करना।
  12. सार्वजनिक व्याख्यान (public lecture) तैयार करना और प्रस्तुत करना।

लेक्चरर में कैरियर की संभावनाएं (Career Scope in Lecturer)

पढ़ाई पूरी करने के बाद आपके पास एक Lecturer बनने के अलावा और भी कई ऑप्शन होते हैं जैसे Reader, Professor, Assistant Professor, Head of the department, Principal भी बन सकते हैं। इतना ही नहीं आप अपने करियर को नई दिशा देने के लिए ट्यूशन क्लासेस खोल सकते है या फिर विदेश में आप टीचिंग की नौकरी कर सकते है।

Lecturer की सैलरी

Lecturer बनकर आप न सिर्फ अपने करियर को अच्छा बनाते हैं बल्कि एक बेहतरीन लाइफ भी जीते है। अगर Lecturer की सैलरी की बात करें तो Lecturer को अच्छी सैलरी के साथ अच्छा सम्मान भी दिया जाता है। आप प्राइवेट सेक्टर में शुरुआती समय में 10,000/- से 40,000/- प्रतिमाह तक सैलरी (salary) पा सकते है। लेकिन अगर आप एक सरकारी सेक्टर में Lecturer हैं तो आपको शुरुआती सैलरी 25,000/- तक मिलती है।

इसके अलावा एक Lecturer को Experience और promotion के साथ 40,000 से 50,000 या 70,000 प्रति महीने की सैलरी मिलती है। अगर आप अपने करियर को और भी सुनहरा बनाना चाहते हैं तो आप स्कूल, कोचिंग खोल कर भी अच्छा मुनाफ़ा कमा सकते हैं।

Lecturer बनने की उम्र (Age for Lecturer)

वैसे तो Lecturer पद के लिए कोई उम्र तैय नहीं की गयी है, लेकिन जूनियर रिसर्च फैलोशिप के लिए Candidate के लिए उम्र 21 से 28 साल के बीच में होनी चाहिए। SC/ ST/ OBC Candidate को आरक्षण के नियमानुसार छूट दी जाती है।

Conclusion,

इस आर्टिकल के जरिए हमने आपको कॉलेज या यूनिवर्सिटी में लेक्चरर बनने के बारे में पूरी जानकारी उपलब्ध करायी हैं, जिसमें लेक्चरर (Lecturer) कैसे बनें? कॉलेज Lecturer बनने के लिए क्या क्या योग्यता होनी चाहिए? लेक्चरर बनने के लिए जरूरी skills क्या होने चाहिए, लेक्चरर कैसे बनें? लेक्चरर की Responsibilities और duties क्या हैं, लेक्चरर में कैरियर की संभावनाएं, लेक्चरर की सैलरी के बारे में अच्छे से जानकारी दी।

I hope, यह आर्टिकल अंत तक पढ़ने के बाद आपको लेक्चरर के बारे में बेहतर और पूरी जानकारी मिल गयी होगी। इसके अलावा, आपके मन में इस आर्टिकल से संबंधित कोई सवाल या सुझाव हैं तो कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें।

यह भी पढ़ें:

  • स्कूल टीचर (School Teacher) कैसे बने?

Lecturer kaise bane, की जानकारी अच्छी लगे तो सोशल मीडिया पर जरूर शेयर करें ताकि कोई और (जो लेक्चरर बनना चाहते हैं) भी इसके बारे में जान सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *