इंजीनियर किसे कहते है और इंजीनियर (Engineer) कैसे बने?

Engineer नाम सुनते ही एक विद्यार्थी अपने मन में कई सपने सजा लेता है, जो कि बहुत ही लाजमी है। अगर आप भी किसी इंजीनियरिंग क्षेत्र (Engineering field) में करियर बनाना चाहते हैं और एक इंजीनियर बनना चाहते हैं इस आर्टिकल हम आपको यह बताएँगे, इंजीनियर कैसे बने? इंजीनियर किसे कहते है, इंजीनियर कितने प्रकार (Types) के होते हैं और इंजीनियर बनने के लिए क्या -क्या योग्यता (Qualification) होनी चाहिए।

Engineer kaise bane

आज के समय मे इंजीनियरिंग एक ऐसा कोर्स बन गया है जहां आप अपने लक्ष्य पर पहुंचने के बाद काफी नाम और शोहरत कमाते हैं। आज हर घर में एक बच्चे का सपना होता है कि वह बड़ा होकर इंजीनियर बने। यदि आप इंजीनियरिंग के किसी भी क्षेत्र में पाँव जमा लेते हैं तो आपका भविष्य उज्जवल बन सकता है क्योंकि एक इंजीनियर की सैलरी लाखों में होती है।

आपको बता दें कि आप इंजीनियर बनने के लिए दसवीं के बाद से ही तैयारी कर सकते हैं। लेकिन उससे पहले आप यह जाने लें कि, इंजीनियर किसे कहते हैं? What is engineer in hindi, Engineer kise kahate hai.

विषय-सूची

  • इंजीनियर किसे कहते हैं (What is Engineer in Hindi)
    • इंजीनियर कितने प्रकार के होते है? (Types of Engineers in Hindi)
  • इंजीनियर कैसे बने? (How to Become Engineer in Hindi)
    • इंजीनियर बनने के लिए योग्यता (Qualification for Engineer in Hindi)
    • इंजीनियर बनने के लिए कोर्स
    • इंजीनियरिंग के लिए शिर्ष कॉलेज (Top Engineering colleges in India in Hindi)
    • इंजीनियर की सैलरी (Engineer Salary in Hindi)
    • निष्कर्ष,

इंजीनियर किसे कहते हैं (What is Engineer in Hindi)

इंजीनियर वह होता है जो अपनी 3 साल की पढ़ाई करने के बाद अपने अंदर किसी नई वस्तु का आविष्कार करने की क्षमता रखता है। किसी को भी एक इंजीनियर बनने के लिए कड़ी मेहनत और लगन से पढ़ाई करनी होती है। एक इंजीनियर को इंजीनियर बनने के लिए कई डिप्लोमा और डिग्री हासिल करनी होती है, जिसका एक इंजीनियर के जीवन में काफी महत्व माना जाता है।

एक इंजीनियर जो कार्य करता है उसे इंजीनियरिंग कहते हैं। आप इंजीनियरिंग की किसी भी ब्रांच में जाना चाहे, आपको साइंस और मैथ की काफी अधिक जानकारी होनी चाहिए। एक इंजीनियर अपने काम से लाखों रुपए कमाता है।

मुख्य रूप से देखा जाए तो जो भी इंजीनियर बनना चाहते हैं उनकी शुरुआत दसवीं के बाद से ही हो जाती है। एक इंजीनियर अपने कोर्स को करने के बाद पेशे के तौर पर कई रोड, पूल और बिल्डिंग का निर्माण करता है। एक इंजीनियर अपने कोर्स के दौरान नई चीजों का आविष्कार करने और उन्हें सही आकार देकर उसका निरंतर टेस्ट करने के बारे में भी सीखता है, जो एक इंजीनियर का मुख्य कार्य माना जाता है।

इंजीनियर कितने प्रकार के होते है? (Types of Engineers in Hindi)

अगर आप  इंजीनियर बनना चाहते हैं तो आपको सबसे पहले यह तय करना होगा कि, आप किस टाइप के इंजीनियर बनना चाहते हैं क्योंकि इंजीनियर बहुत सारे प्रकार के होते हैं और इंजीनियर अपने आप में ही कई क्षेत्रों में बंटा हुआ है। आईये जानते हैं कि इंजीनियर कितने प्रकार के होते हैं। (Engineer ke prakar in hindi)

1. इलेक्ट्रिकल इंजीनियर

आप इसके नाम से ही समझ सकते हैं कि इस क्षेत्र में किस तरह का काम होता होगा। यहां पर काम थोड़ा जोखिम भरा होता है क्योंकि यहां इंजीनियर को इलेक्ट्रिसिटी से संबंधित सभी उपकरणों पर काम करना होता है।

2. मैकेनिकल इंजीनियर

जिन लोगों को मशीन के विषय में जानने की रूचि होती है वे लोग मैकेनिकल इंजीनियरिंग करते हैं। इस क्षेत्र में आपको पूरी तरह से मशीन के बारे में छोटी से छोटी चीजें बताई जाती है और आपके आसपास हमेशा मशीन रहते हैं।

3. सिविल इंजीनियर

सिविल इंजीनियर पूरी तरह से सरकार के निर्देश पर काम करते हैं जैसे कि कोई रोड, स्कूल, अस्पताल या पुल का निर्माण सिविल इंजीनियर के द्वारा किया जाता है। सरकार के निर्देश के अनुसार ही सिविल इंजीनियर अपने कार्यों को एक रूप देती है।

4. कंप्यूटर इंजीनियर

कंप्यूटर आज हर किसी की जरूरत बन चुका है। इसलिए आज कंप्यूटर इंजीनियर की मांग बहुत बढ़ गई है। एक कंप्यूटर इंजीनियर वह होता है जो हार्डवेयर सहित लैपटॉप और कंप्यूटर को डिज़ाइन और डिवेलप करता है।

5. सॉफ्टवेयर इंजीनियर

सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनना कई लोगों का सपना होता है पर आपको बता दें कि सॉफ्टवेयर इंजीनियर नए नए तरह के सॉफ्टवेयर और ऐप का निर्माण करके लोगों की जरूरतों को पूरा करने का काम करता है।

इनके अलावा भी कई सारे इंजीनियरिंग कोर्स है जैसे, ऊर्जा इंजीनियरिंग, फोटोनिक्स इंजीनियरिंग, हाइड्रोलिक इंजीनियरिंग, कृषि इंजीनियरिंग, टेक्नोलॉजी इंजीनियरिंग, ओसियन इंजीनियरिंग और पेट्रोलियम इंजीनियरिंग आदि। आप इंजीनियरिंग के इन क्षेत्रों में अपना करियर बना सकते हैं।

अब तक आपने जान लिया है कि, इंजीनियर किसे कहते हैं, एक इंजीनियर काम क्या करता है और इंजीनियर कितने प्रकार के होते हैं (What is engineer, Types of engineer in hindi) आईये अब जानते हैं, इंजीनियर कैसे बने?

इंजीनियर कैसे बने? (How to Become Engineer in Hindi)

एक सफल इंजीनियर कैसे बने, इंजीनियर बनने के लिए क्या करें? Engineer kaise bane, How to become Engineer in hindi.

विषय का चुनाव करें

इंजीनियरिंग एक ऐसी शाखा है जो कई हिस्सों में बंटी हुई है। इसके लिए सबसे जरूरी है अपनी रूचि के अनुसार उस क्षेत्र का चुनाव करें जिस क्षेत्र में आपको आगे बढ़ना है। तब जाके आप आगे इसकी तैयारी शुरू कर सकते हैं और उसके लिए पर्याप्त डिग्री प्राप्त करके अपने लक्ष्य को हासिल कर सकते हैं।

डिग्री प्राप्त करें

10वीं या 12वीं में अपनी इच्छा और रूचि के अनुसार इंजीनियरिंग में डिप्लोमा या डिग्री प्राप्त कर लें। जहाँ 12वीं के बाद विद्यार्थी को मेडिकल और नॉन मेडिकल के सब्जेक्ट को चुनना होता है। वहीँ दसवीं के बाद विद्यार्थियों को आईटीआई करने या फिर पॉलिटेक्निक में डिप्लोमा प्राप्त करके बीटेक में प्रवेश लेना चाहिए।

डिग्री के बाद कंपनी को चुनें

जब आप अपने चुने हुए विषय में डिग्री हासिल कर लेते हैं तो फिर आप उस फिल्ड से जुड़ी कंपनी का चुनाव कर सकते हैं और उस कंपनी में इंटरव्यू देकर नौकरी पा सकते हैं।

इंजीनियर बनने के लिए योग्यता (Qualification for Engineer in Hindi)

12वीं में अच्छे अंकों के साथ उत्तीर्ण होना अनिवार्य है, तभी आप इंजीनियर बनने का सपना पूरा कर सकते हैं। उसके बाद इंजीनियरिंग की पढ़ाई करके 3 साल का डिप्लोमा डिग्री की आवश्यकता होती है। इसके अलावा कई अन्य कोर्स जैसे बीई और बीटेक भी है जिसे आप सफलता पूर्वक करके भी इंजीनियर बन सकते हैं।

इंजीनियर बनने के लिए कोर्स

इंजीनियर बनने के लिए कई कोर्स उपलब्ध है, आप चाहे तो डिप्लोमा कोर्स कर सकते हैं या बैचलर कोर्स कर सकते हैं। दोनों के माध्यम से आपको डिग्री मिलती है और आप इंजीनियर बन सकते हैं।

1. डिप्लोमा इंजीनियरिंग कोर्स

इस कोर्स की अवधि 3 साल की होती है, जिसमें आपके पास साइंस और मैथ विषय होना अनिवार्य है।

  • Diploma in Information Science (सूचना विज्ञान में डिप्लोमा)
  • Diploma in Automobile Engineering (ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग में डिप्लोमा)
  • Diploma in Computer Science (कंप्यूटर साइंस में डिप्लोमा)
  • Diploma in Mechanical Engineering (मैकेनिकल इंजीनियरिंग में डिप्लोमा)
  • Diploma in Civil Engineering (सिविल इंजीनियरिंग में डिप्लोमा)
  • Diploma in Electrical Engineering (इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में डिप्लोमा)
  • Diploma in Electronic Instrumentation and Control Engineering (इलेक्ट्रॉनिक इंस्ट्रूमेंटेशन और कंट्रोल इंजीनियरिंग में डिप्लोमा)

2. बैचलर इंजीनियरिंग कोर्स

12वीं में सफलता के बाद ही आप यह कोर्स करने के लिए सक्षम हो सकते हैं और आप का विषय साइंस होना चाहिए। यह कोर्स करने के बाद निम्न इंजीनियरिंग के क्षेत्र में इंजीनियर बन सकते हैं।

  • Automobile engineering ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग
  • Biotechnology engineering (जैव प्रौद्योगिकी इंजीनियरिंग)
  • Civil Engineering (असैनिक अभियंत्रण)
  • mechanical Engineering (मैकेनिकल इंजीनियरिंग)
  • Aerospace engineering (अंतरिक्ष इंजीनियरिंग)
  • chemical Engineering (रासायनिक अभियांत्रिकी)
  • computer Engineering (कंप्यूटर इंजीनियरिंग)
  • Industrial engineering (औद्योगिक इंजीनियरिंग)
  • Information Technology Engineering (सूचना प्रौद्योगिकी इंजीनियरिंग)
  • Metallurgical engineering (मेटलर्जिकल इंजीनियरिंग)

इंजीनियरिंग के लिए शिर्ष कॉलेज (Top Engineering colleges in India in Hindi)

यहाँ हमने आपके लिए इंडिया के टॉप इंजीनियरिंग कॉलेज के बारे में भी बताया है। ताकि आपको अपने लिए बेस्ट इंस्टिट्यूट खोजने में परेशानी ना हो।

  1. Indian Institute of Technology, Guwahati
  2. Indian Institute of Technology, Delhi
  3. Indian Institute of Technology, Kharakpur
  4. Indian Institute of Technology, Mumbai
  5. Indian Institute of Technology, Raipur
  6. Indian Institute of Technology, Roorkee
  7. Birla Institute of Technology, Pilani
  8. Delhi Technology University, Delhi
  9. Indian Institute of Technology, Dhanbad
  10. Indian Institute of Technology, Indore

इंजीनियर की सैलरी (Engineer Salary in Hindi)

किसी भी पेशे में एक व्यक्ति की सैलरी, उसकी नौकरी, पोजीशन और अनुभव पर निर्भर करती है। ठीक वैसे ही इंजीनियरिंग के क्षेत्र में भी यही होता है। यहां हर क्षेत्र में अलग-अलग सैलरी दी जाती है, कहीं ज्यादा तो कहीं कम। यह सब इंजीनियर के के पद पर निर्भर करता है। जैसे कि, मेकेनिकल इंजीनियर को चार लाख प्रति साल सैलेरी मिलती हैं। वहीं सिविल इंजीनियर की सैलरी 3 से लेकर 4 लाख प्रति वर्ष है। अब बात करें, कंप्यूटर इंजीनियर की तो यह उसके working skills पर निर्भर करता है। एक कंप्यूटर इंजीनियर लगभग 1 महीने में 30 से 40 हजार कमा सकता है। सॉफ्टवेयर इंजीनियर की सैलरी इनसे ज्यादा 5 से 10 लाख प्रति वर्ष मानी जाती है।

निष्कर्ष,

इस आर्टिकल में हमने आपको इंजीनियर कैसे बने? इंजीनियर किसे कहते हैं, इंजीनियर कितने प्रकार के होते हैं और एक इंजीनियर का वेतन कितना होता है आदि के बारे में बताया। हम उम्मीद करते हैं, इस पोस्ट को अंत तक पढ़ने के बाद आपको इंजीनियर के बारे में पूरी जानकारी मिली होगी।

इसके अलावा, अगर अभी भी आपको इंजीनियर के बारे में कोई और जानकारी चाहिए या आपका इससे संबंधित कोई सवाल है तो आप हमसे कमेंट में पूछ सकते हैं।

यह भी पढ़ें:

  • सॉफ्टवेयर इंजीनियर कैसे बने?

अगर आपको यह जानकारी उपयोगी लगे तो सोशल मीडिया पर अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें ताकि उन्हें भी इसके बारे में पता चल सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *