आंगनबाड़ी कार्यकर्ता (Anganwadi Worker) कैसे बनें?

आपने आंगनबाड़ी के बारे में जरूर सुना होगा। आंगनबाड़ी एक तरह का rural child care center है यानि एक ऐसा सेंटर जहां ग्रामीण बच्चों का ध्यान रखा जाता है। आंगनबाड़ी को भारत सरकार ने 1985 में शुरू किया था। जिस तरह दूसरे सरकारी दफ्तरों में कार्यकर्ता काम करते हैं, ठीक वैसे ही आंगनबाड़ी में भी सरकारी लोग काम करते हैं। जिन्हें आंगनवाडी कार्यकर्ता (Anganwadi Worker) और आंगनवाडी टीचर भी कहा जाता है। आज हम इसी के बारे में जानेंगे।

Anganwadi Worker kaise bane

अगर आप भी आंगनबाड़ी के कार्यकर्ता की नौकरी पाना चाहते हैं तो इस आर्टिकल को पढ़ें। इस आर्टिकल में हम आपको यही बताएँगे कि, आंगनबाड़ी क्या है, कैसे काम करती है और आंगनबाड़ी कार्यकर्ता कैसे बन सकते हैं। ग्रामीण महिलाओं के लिए ये एक बेहतर नौकरी का ऑप्शन है।

सबसे पहले, आप यह जान लें कि आंगनवाडी क्या होती है, इसका मतलब क्या होता है और आंगनवाडी में काम क्या करना पड़ता है यानी एक आंगनवाडी वर्कर काम क्या करता है आदि के बारे में।

आईये जानते हैं, Anganwadi kya hai hindi me puri jankari, How to become a anganwadi worker in hindi, Aanganwadi karyakarta kaise bane, Anganwadi worker kaise bane.

विषय-सूची

  • आंगनबाड़ी क्या होती है? (What is Aanganwadi In Hindi)
    • आंगनबाडी कार्यकर्ता कौन होती है? (What is Anganwadi Worker In Hindi)
    • आंगनबाडी केंद्र में क्या होता है?
    • आंगनबाड़ी में उपलब्ध कराई जाने वाली सेवाएं
  • आंगनबाड़ी कार्यकर्ता कैसे बने? (How to Become Anganwadi Worker in Hindi)
    • आंगनबाडी कार्यकर्ताओं का वेतन (Anganwadi Worker Salary)
    • Conclusion,

आंगनबाड़ी क्या होती है? (What is Aanganwadi In Hindi)

आंगनवाडी कार्यकर्ता बनने के बारे में जानने से पहले आपके लिए ये जानना जरूरी है कि आंगनबाड़ी क्या होती है। अगर हम आसान सी भाषा में समझें तो आंगनबाड़ी का मतलब होता है ‘आंगन आश्रय’ जिसे अंग्रेजी में “courtyard shelter” कहते हैं। इसे 1985 में भारत सरकार ने Integrated Child Development Services यानि एकीकृत बाल विकास सेवा के अंतर्गत शुरू किया था। जिसका मकसद था बच्चों को भूख और कुपोषण का शिकार होने से रोकना।

आंगनबाड़ी केंद्र में गांव को बुनियादी स्वास्थ्य देखभाल प्रदान की जाती है। ये इंडियन पब्लिक हेल्थ केयर सिस्टम का हिस्सा है। आंगनबाड़ी में ग्रामीण बच्चों की प्री-स्कूल एक्टिविटीज़ भी कराई जाती है जैसे स्कूल में एडमिशन से पहले उनका खेलकूद, खाना-पीना, अक्षरों का ज्ञान आदि गतिविधियां शामिल हैं।

आंगनबाडी कार्यकर्ता कौन होती है? (What is Anganwadi Worker In Hindi)

अब जानते हैं कि आंगनबाड़ी कार्यकर्ता कौन होते हैं। जो आंगनबाड़ी केंद्र का संचालन करें, आंगनवाडी में काम करने वाले, वो आंगनबाड़ी कार्यकर्ता होती है। आंगनबाड़ी केंद्र में कार्यकर्ता के साथ सहायिका भी होती है। जो कार्यकर्ता की मदद करती है।

आंगनबाडी केंद्र में क्या होता है?

आंगनबाड़ी केंद्र में ग्रामीण बच्चे जिनकी उम्र 3 से 6 साल होती है, उनके पोषण, स्वास्थ्य, प्रारंभिक शिक्षा का ध्यान रखा जाता है। बच्चों के साथ साथ ग्रामीण गर्भवती महिलाओं के स्वास्थ्य, रेगुलर चेकअप का ध्यान भी आंगनबाड़ी रखती है। इन सबका संचालन आंगनबाड़ी कार्यकर्ता करती है।

आंगनबाड़ी को ज्यादातर गांव या बस्ती के बीच में बनाया जाता है, जहां बच्चे आकर खेल सके। उन्हें इस केंद्र में पोषक आहार भी दिया जाता है। सरकार की तरफ से हर गांव की आंगनबाड़ी के लिए बजट पास किया जाता है। हर आंगनबाड़ी केंद्र को ग्राम स्तर की 400 से 800 लोगों की जनसंख्या पर बनाया जाता है। इसीलिए किसी भी गांव में एक या उससे ज़्यादा भी केंद्र हो सकते हैं।

आंगनबाड़ी में उपलब्ध कराई जाने वाली सेवाएं

  • छह वर्ष से कम आयु के बच्चों का टीकाकरण करवाने की जिम्मेदारी।
  • छह वर्ष से कम आयु के बच्चों को पोषक आहार देकर कुपोषण से बचाना।
  • नवजात बच्चों और 6 से कम उम्र के बच्चों की देखभाल करना।
  • गर्भवती महिलाओं की देखभाल और टीकाकरण करवाना।
  • 3 से 6 साल के बच्चों की प्री-स्कूल activities कराना।
  • कुपोषण या गंभीर बीमारी के केस को अस्पताल, समुदाय स्वास्थ्य केंद्र, जिला अस्पताल आदि में भेजना।

अब तक आपने यह तो जान लिया, आंगनवाडी क्या है, आंगनबाडी कार्यकर्ता कौन होती है और आंगनवाडी में क्या-क्या सेवाएं उपलब्ध कराई जाती है यानी आंगनवाडी में क्या काम किया जाता है। आईये अब जानते हैं कि, आंगनवाडी कार्यकर्ता कैसे बन सकते हैं।

आंगनबाड़ी कार्यकर्ता कैसे बने? (How to Become Anganwadi Worker in Hindi)

अगर आप आंगनबाड़ी कार्यकर्ता बनना चाहती हैं तो नीचे दिए गए Points को पढ़े। लेकिन सबसे पहले ये जानना जरूरी है कि सिर्फ महिलाओं को ही आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के लिए सिलेक्ट किया जाता है।

आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के लिए सामान्य योग्यता (Eligibility for Anganwadi Worker)

  • आवेदन करने वाली महिला संबंधित राज्य की ही स्थानीय निवासी हो।
  • महिला की न्यूनतम उम्र 21 साल और अधिकतम उम्र 45 साल होनी चाहिए।
  • वहीं, अनुसूचित जाति एवं जनजाति (SC/ST) की महिलाओं को 5 साल की छूट दी जाती है।
  • अन्य पिछड़ा वर्ग (OBC) की महिलाओं को 3 साल की छूट दी जाती है।
  • आवेदक महिला विवाहित होनी चाहिए।

शैक्षिक योग्यता

जो महिला आंगनबाड़ी कार्यकर्ता बनने के लिए आवेदन कर रही है, उसका दसवीं पास होना जरूरी है। वहीं, जो महिला आंगनबाड़ी सहायिका के लिए आवेदन करती है, उसका 8वीं पास होना जरूरी है। इसमें ज्यादा पढ़ी-लिखी महिलाएं भी कार्यकर्ता के लिए अप्लाई कर सकती हैं।

चयन प्रक्रिया (Selection Process of Anganwadi Worker)

आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के सिलेक्शन प्रोसेस में अब पर्सनल इंटरव्यू भी होता है। जिसके लिए 25 अंक तय किए गए हैं। इन 25 अंकों को अलग अलग योग्यताओं के आधार पर दिया जाता है।

जिसमें 25 में से 10 अंक शैक्षणिक योग्यता के आधार पर मिलते हैं। इसमें सात अंक राज्य की तरफ से निर्धारित योग्यता पर दिए जाते हैं। जो निम्न प्रकार से हैं।

  • ग्रेजुएशन की डिग्री के लिए – 2 अंक
  • पोस्ट ग्रेजुएशन की डिग्री के लिए – 1 अंक
  • नर्सरी टीचर या बाल सेविका के रूप में 10 महीने या ज्यादा के अनुभव वाली महिला को – 3 अंक
  • पति से अलग रह रही महिला, अनाथ आश्रम में रहने वाली या तलाकशुदा आवेदक को – 3 अंक
  • 40 फीसदी या इससे अधिक विकलांग आवेदक को – 2 अंक
  • एससी/एसटी/ओबीसी महिला आवेदक को – 2 अंक
  • पर्सनल इंटरव्यू के आधार पर – 3 अंक
  • किसी आवेदक की दो बेटियां होने पर – 2 अंक

इस तरीके से 25 नंबरों को विभाजित किया जाता है। जिस महिला का स्कोर सबसे ज्यादा होता है उसे आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के लिए चुन लिया जाता है। लेकिन अगर दो महिला आवेदकों के नंबर समान होते हैं तो क्या होगा। अगर ऐसी स्थिति आती है तो उस महिला को प्राथमिकता दी जाती है जिसकी उम्र ज्यादा हो।

आंगनबाडी कार्यकर्ताओं का वेतन (Anganwadi Worker Salary)

अब आते हैं सबसे main मुद्दे पर कि, आंगनवाडी कार्यकर्ता को सैलरी कितनी मिलती हैं। तो हम आपको बता दें, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता को 8 हजार रूपए और वहीं आंगनवाडी वर्कर की सहायिका को 4 हजार रूपए मानदेय के तौर पर दिए जाते हैं।

आंगनबाड़ी केंद्र की देखरेख कौन करता है

आपको यह भी बता दें कि आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और सहायिका अपनी जिम्मेदारियों को निभाती हैं लेकिन पूरे केंद्र पर प्रशासन की नजर रहती है। उप जिलाधिकारी यानि एसडीएम आंगनबाड़ी केंद्रों की मॉनीटरिंग करते हैं। एसडीएम कभी भी आकर चेक कर सकते हैं कि बच्चों की देखभाल ठीक से की जा रही है या नहीं।

स्वास्थ्य सुविधा, शिक्षा, गर्भवती महिलाओं की देखभाल की जिम्मेदारी कार्यकर्ता और सहायिका ढंग से निभा रही हैं या नहीं। इसके लिए attendance register का भी निरीक्षण किया जाता है।

आंगनवाडी की नौकरी कौन कर सकती है?

आंगनवाडी में काम वे महिलाएं कर सकती है जो 8 से 10 पढ़ी हो और छोटे बच्चों की देखभाल करना जानती हो। गरीब घर की महिलाएं, जिनकी आर्थिक स्थिति ठीक नहीं उनके लिए Anganwadi worker job बहुत अच्छी है।

Conclusion,

इस पोस्ट में हमने आपको आंगनबाड़ी के बारे में जानकारी दी। आंगनबाड़ी केंद्र क्या है, इसमें कौन-सी सेवाएं उपलब्ध कराई जाती है। आंगनबाड़ी कार्यकर्ता कैसे बन सकते हैं, आंगनवाडी वर्कर बनने के लिए सामान्य योग्यता और शैक्षिक योग्यता क्या होनी चाहिए। साथ ही हमने आपको एक आंगनवाडी वर्कर की सैलरी कितनी होती है यह भी बताया।

आंगनवाडी के बारे में यह आर्टिकल अंत तक पढ़ने के बाद आपको आंगनवाडी के बारे में सब कुछ पता चल गया होगा। अगर अभी भी आपके मन में इससे संबंधित कोई सवाल है तो हमसे कमेंट में पूछ सकते हैं।

यह भी पढ़ें:

  • School Teacher कैसे बने?

अगर आपको Anganwadi worker कैसे बने? की जानकारी अच्छी लगे तो सोशल मीडिया पर जरूर शेयर करें ताकि कोई और भी इसके बारे में जान सके। धन्यवाद!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *